section and everything up till
* * @package ThemeGrill * @subpackage ColorMag * @since ColorMag 1.0 */ // Exit if accessed directly. if ( ! defined( 'ABSPATH' ) ) { exit; } ?> अलविदा 2020-सृष्टि सराफ सिसोदिया - सरल संवाद

अलविदा 2020-सृष्टि सराफ सिसोदिया

अलविदा 2020
आज 31st दिसंबर 2020
पूरे साल पर रोशनी डाली जाए तो COVID-19 मुख्यतः सामने आता है

हमने, हमारे ngo ने 10 मार्च से जागरूकता अभियान से शुरुआत करते हुए, कयी काम किए, जो अब तक जारी है

समय..जब मजदूर निकल पड़े घरों को पहुचने को
बेहाल, डरे हुए, परेशान, भूखे
ना जाने ही कितने परेशान, और कितने प्रश्नो को झोली में डालकर बस निकल पड़े, अपनों के पास
हजारों किलोमीटर चलकर, नंगे पैर, परिवार के साथ, बीमार बुजुर्गों के साथ
खुद की बीमारियाँ, औरतों की माहवारी, दर्द, घुटन, बच्चियों की सुरक्षा का जिम्मा लिए ये बस चल पड़े
चल तो निकले, अब आगे क्या होगा कुछ सोचा नहीं
मई की तपते फर्श से अर्श, प्यास से गला सूखता सा,ऊपर आसमान आस तोड़ता, रात को खून जमा और नसे तोड़ती थकाने ,कराहती, जुझती रातें जब सुबह से मिलती तो वो ही परेशानी, आर्थिक तंगी, भूख और प्यास घेर लेती

उस समय हमारे इंदौर वासी सजग हुए, उठ खड़े हुए मदद को
कितनी हो तरह की मदद की गयी
कोई पीछे नहीं रहा
मानवीयता जाग गयी, इंसानियत फिर चमकने लगी

बसे भेजी गई, उन्हें लेकर गांवों तक भेजने को
Ngo s जुट गए, सीमा पर जाकर, सभी की मदद से सारा जरूरत का समान बांध के चल पड़े मदद करने को

इस तकलीफ मे भी खुशी थी कि तकलीफ आए तो सब एक हो जाते है

ससम्मान, सुरक्षित, तब ही नहीं, घरों तक के लिए समान और राशन दिया गया
मध्यप्रदेश, विशेषकर इंदौर सीमा आते ही, समान, राशन, पका खाना, कपड़े इत्यादि से मजदूरों को दिया गया, आगे गांवों तक छोड़ गया

हमारे राजनेता, हमारे ऑफिसर नगर निगम, डॉक्टर, पोलिस, ngo,voluntary organization, नागरिक, रहवासी, मीडिया, news चैनल, सफाईकर्मी, corporates, स्वयंसेवी संघ, कॉलेज, स्कुल, हॉस्पिटल यानी ही मददगार “”””भगवान”””””
हो गया
2020 में COVID-19 ने कई भगवान स्वरुपों से मिलवाया
इंसानियत जिंदा है बताया
साथ थाली बजाते, रोशनी करते एकता के आंसू आँखों में और हाथ तैयार मदद को, साथ देने को
यानी महामारी ने कितनी छुपी भावनायें जगाई 🙏🏻🙏🏻🙏🏻🙏🏻🙏🏻🙏🏻🙏🏻💐💐💐💐💐🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳👌🏻

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

11111111