ग्लोबल सस्टेनेबिलिटी वसुधैव कुटुम्बकम् के भाव से प्रेरित है- डॉ. द्विवेदी

हरियाणा, द नार्थकैप यूनिवर्सिटी के दूसरे अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन में मॉडर्न ग्रुप ऑफ़ इंस्टीट्यूट्स, इंदौर के समूह निदेशक डॉ. पुनीत द्विवेदी बतौर सम्माननीय अतिथि वक्ता के रूप में उपस्थित रहे। ज्ञातव्य है कि उक्त अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन “रेजिलियंस फ़ॉर सस्टेनिबिलिटी : री-विज़िटिंग मैनेजमेंट प्रैक्टिसेस एंड स्ट्रेटैजाईजिंग फ़ॉर द फ्यूचर” विषय पर आयोजित किया गया था। इस अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन में देश-विदेश के विभिन्न भागों से शोधकर्ताओं ने ८० के लगभग शोधपत्र प्रस्तुत किये। डॉ. पुनीत द्विवेदी उक्त अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन के समापन सत्र में सम्माननीय अतिथि के रूप में आमंत्रित थे। अपने वक्तव्य में डॉ. पुनीत द्विवेदी ने आत्मनिर्भरता हेतु शिक्षा-उद्योग एवं समाज के उत्तरदायित्वों की चर्चा की। डॉ. द्विवेदी ने बताया कि सस्टेनेबल डेवलपमेंट गोल्स (SDGs) पर अधिक ध्यान देकर इस पृथ्वी को एक सुंदर जगह बनाये रखने हित हमारा प्रयास होना चाहिये। ज्ञातव्य है कि संयुक्त राष्ट्र संघ के द्वारा वसुधैव कुटुम्बकम के भाव को स्वीकार कर १७ सस्टेनेबल डेवलपमेंट गोल्स निर्धारित किये गये हैं जिनसे सामाजिक उत्थान संभव है। द नार्थकैप यूनिवर्सिटी का यह अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन नाईजिरीया एवं कैनेडा के दो विश्वविद्यालयों के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित किया गया था। उक्त अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन में डॉ. पुनीत द्विवेदी के साथ अन्य अतिथियों में नैक (NAAC) के सलाहकार एवं ए.आई.सी.टी.ई (AICTE) के अधिकारी, रेलवे बोर्ड के सलाहकार एवं अंतरराष्ट्रीय विश्वविद्यालयों के प्रतिनिधि आदि भी उपस्थित रहे।कार्यक्रम के अंत में उक्त अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन की संयोजिका डॉ. स्वरनजीत अरोरा ने सम्मेलन के सफलता की घोषणा की एवं समस्त अतिथियों एवं प्रतिभागियों के प्रति आभार ज्ञापित किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *