गौरैया से हमारा बचपन का रिश्ता है

चिड़िया को बचाने के लिए आप क्या कर रहे है?
घर हमारे बड़े-बड़े हो गए हैं, पर दिल इतने छोटे कि उनमें नन्हीं-सी गौरैया भी नहीं आ पा रही. घर-घर की चिड़िया गौरैया आज अपने अस्तित्व के लिए संघर्ष कर रही है.

भारत में भी पक्षी वैज्ञानिकों के अनुसार पिछले कुछ सालों में गौरैया की संख्या में उल्लेखनीय गिरावट आई है. लगातार घटती इसकी संख्या को अगर हमने गंभीरता से नहीं लिया, तो वह दिन दूर नहीं, जब गौरैया हमेशा के लिए हमसे दूर चली जाएगी.
गौरैया के इस तरह गायब होते जाने के कारणों की पड़ताल की जाए तो हम मनुष्यों की आधुनिक जीवन शैली और पर्यावरण के प्रति उदासीनता इसका सबसे बड़ा कारण नज़र आती है. आधुनिक बनावट वाले मकानों में गौरैया को अब घोंसले बनाने की जगह ही नहीं मिलती. जहां मिलती है, वहा हम उसे घोंसला बनाने नहीं देते.
शहरों और गांवों में बड़ी तादाद में लगे मोबाइल फ़ोन के टावर भी गौरैया समेत दूसरे पक्षियों के लिए बड़ा ख़तरा बने हुए हैं. इनसे निकलने वाली इलेक्ट्रोमैग्नेटिक किरणें उनकी प्रजनन क्षमता पर बुरा प्रभाव डालती हैं.
इसके अलावा उनके दाना-पानी की भी समस्या है. गौरैया मुख्यतः काकून, बाजरा, धान, पके चावल के दाने और कीड़े खाती है. आधुनिकता उनसे प्राकृतिक भोजन के ये स्रोत भी छीन रही है.
गौरैया का कम या विलुप्त होना इस बात का संकेत है कि हमारे आसपास के पर्यावरण में कोई भारी गड़बड़ चल रही है, जिसका खामियाजा हमें आज नहीं तो कल भुगतना ही पड़ेगा.
अगर हम गौरैया को संरक्षण प्रदान कर उसे जीवनदान देते हैं, तो वह भी पारिस्थितिक तंत्र के एक हिस्से के रूप में हमारे पर्यावरण को बेहतर बनाने में अपना योगदान देती है. वह अपने बच्चों को अल्फा और कटवर्म नामक कीड़े भी खिलाती है, जो हमारी फसलों के लिए हानिकारक होते हैं. प्रकृति की सभी रचनाएं कहीं न कहीं प्रत्यक्ष-अप्रत्यक्ष रूप से एक-दूसरे पर निर्भर हैं और हम भी उनमें शामिल हैं.
हमारी छोटी-सी कोशिश गौरैया को जीवनदान दे सकती है. सबसे पहली बात कि अगर वह हमारे घर में घोंसला बनाए, तो उसे बनाने दें. हम नियमित रूप से अपने आंगन, खिड़कियों और घर की बाहरी दीवारों पर उनके लिए दाना-पानी रखें. गर्मियों में न जाने कितनी गौरैया प्यास से मर जाती हैं. इसके अलावा उनके लिए कृत्रिम घर बनाना भी बहुत आसान है और इसमें खर्च भी न के बराबर होता है. जूते के डिब्बों, प्लास्टिक की बड़ी बोतलों और मटकियों में छेद करके इनका घर बना कर उन्हें उचित स्थानों पर लगाया जा सकता है. इंटरनेट पर खोजेंगे, तो गौरैया के लिए घर बनाने के बड़े आसान तरीके आपको आराम से मिल जाएंगे. एक बात और, गौरैया को कभी नमक वाला खाना नहीं डालना चाहिए, नमक उनके लिए हानिकारक होता है. प्रजनन के समय उनके अंडों की सुरक्षा का ध्यान रखना चाहिए.

गौरैया से हमारा बचपन का रिश्ता है. अंग्रेजी में उसका नाम ही है ‘हाउस स्पैरो’ यानी घर में रहने वाली चिड़िया. उसे हमारा बस थोड़ा-सा प्यार और थोड़ी-सी फिक्र चाहिए, रहने को थोड़ी-सी जगह चाहिए…हमारे घर में और हमारे दिल में.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *