section and everything up till
* * @package ThemeGrill * @subpackage ColorMag * @since ColorMag 1.0 */ // Exit if accessed directly. if ( ! defined( 'ABSPATH' ) ) { exit; } ?> वन स्टाॅप सेन्टर में रिश्तों को बचाने की कवायद" - सरल संवाद

वन स्टाॅप सेन्टर में रिश्तों को बचाने की कवायद”

“वन स्टाॅप सेन्टर में रिश्तों को बचाने की कवायद”
दिनांक 31/05/21 को सुषमा सरोदे (परिवर्तित नाम)पति आशीष सरोदे (परिवर्तित नाम)के खिलाफ शिकायत लेकर वन स्टॉप सेंटर आयी थी। पति द्वारा मारपीट, जन से मारने की धमकी देना, मायके वालों के साथ बदसलूकी,दहेज की मांग से परेशान होकर ये पति से भरण पोषण चाहती थी। सुषमा के आवेदन पर परामर्शदात्री ने उनकी समस्या को सुना, समझा और समस्या को सुलझाने की सलाह दी।
एकल परामर्श पश्चात सुषमा ने अपना रिश्ता बचाने की इच्छा जताई। तदोपरांत आशिष को बुलाकर उसे समझाइश दी गई।
दोनों के एकल व संयुक्त परामर्श के उपरांत मामला सुलझता नजर आया। परामर्श में कुछ छोटी छोटी समस्याएं सामने आईं जो रिश्ते को दीमक की तरह खा रहीं थी।
पति द्वारा पत्नी को सम्मान और प्यार से रखा जाएगा , उसे हाथ खर्च के लिए पैसे दिए जाएंगे, पति नशा न करें और पत्नी आशीष के माता-पिता से सम्मानपूर्वक व्यवहार करें और बदजुबानी न करें तो पति पत्नी के बीच कोई समस्या नहीं होगी। दोनों की इन बातों के मद्देनजर सशर्त लिखित समझौता करवाया गया और दोनों पति-पत्नी सहर्ष साथ रहने पर सहमत हुए।वन स्टाॅप सेन्टर के खाते में एक और घर बचना शामिल हुआ।
जिला कार्यक्रम अधिकारी:
डाॅ.सी. एल.पासी
प्रशासन :
डाॅ. वंचना सिंह परिहार
परामर्शदात्री : सुश्री अल्का फणसे
केस वर्कर : सुश्री विनीता सिंह।

वन स्टॉप सैंटर (सखी),,
महिला बाल विकास विभाग परिसर,,,
अर्जुन प्याऊ, मुरायी मौहल्ला, छावनी,कमला नेहरू स्कूल के पास,,,इंदौर ,,
लैंडलाइन नंबर —07314911804

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *