section and everything up till
* * @package ThemeGrill * @subpackage ColorMag * @since ColorMag 1.0 */ // Exit if accessed directly. if ( ! defined( 'ABSPATH' ) ) { exit; } ?> झिंजर कांड वाले आरोपियों से अवैध वसूली के साथ लगातार संपर्क में था तौफीक खान, जांच तक नहीं - सरल संवाद

झिंजर कांड वाले आरोपियों से अवैध वसूली के साथ लगातार संपर्क में था तौफीक खान, जांच तक नहीं

रिपोर्ट : जगदीश परमार

अति विश्वसनीय सूत्रों से खबर प्रकाशित की जा रही है झिंजर कांड वाले आरोपियों से अवैध वसूली के साथ लगातार संपर्क में था तौफीक खान।

उज्जैन एक बड़े स्तर पर शराब कांड और झिंजर कांड के चलते 18 लोगों की मौत हो गई। जिसमें कई बेगुनाह पुलिसकर्मियों पर गाज गिर गई। प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा एसआईटी जांच बिठाई गई। जब जांच टीम उज्जैन पहुंची तो कई लोगों पर कार्रवाई नहीं हुई जिनकी मिलीभगत से इतना बड़ा हादसा उज्जैन में हुआ।

उज्जैन में चर्चा आमजन के बीच लगातार हो रही एसआईटी टीम में आए अधिकारी द्वारा अपने अपने लोगों को बचा लिया गया और जो लोग उनके संपर्क में नहीं थे उनके ऊपर एसआईटी और सरकार की गाज गिर गई।

ऐसा हम नहीं कह रहे

आम जनता की आवाज हमारे समाचार के माध्यम से आप तक पहुंचा रहे। वास्तविकता में गाज गिरना चाहिए आबकारी विभाग निगम विभाग लेकिन गिर गई पुलिसकर्मियों पर जिसमें वरिष्ठ अधिकारियों का फेरबदल भी कर दिया। नगरनिगम के भ्रष्ट अधिकारी सुबोध कुमार जैन का करीबी माने जाने वाले जो अवैध तरीके से वसूली करता था तौफीक खान पर अभी तक एसआईटी या सरकार के अन्य वरिष्ठ अधिकारियों के द्वारा जांच क्यों नहीं बिठाई गई?
इस समय शराब कांड के परिवार से कुछ हमारे टीम के लोगों ने बात की उनका नाम प्रकाशित नहीं करने पर उन्होंने हमारे ऊपर भरोसा जताया और तोफिक खान का नाम बताया यदि तौफीक खान की गहराई से जांच हो निश्चित रूप से जेल की हवा और चक्की पीसने का कार्य करेगा।

कई सालों से एक ही विभाग वसूली विभाग और वसूली पटेल के नाम से नगरनिगम में तौफीक खान में अपनी पहचान बनाई। अवैध तरीके से और फर्जी तरीके से हर किसी की गरीबों की रसीद काटकर सुबोध कुमार जैन को कुछ रुपया देता था और कुछ खुद रख लेता था ऐसी चर्चा शहर में आम जनता के बीच हो रही है।

वास्तविकता में तौफीक खान की प्रॉपर्टी का पता लगाया जाए तो पता चलेगा आज एक छोटा सा कर्मचारी अरबों का खेल कर रहा है।

छिंदवाड़ा में भोपाल में इंदौर में और भी कई जगह अपने रिश्तेदारों के नाम पर तोफिक में करोड़ों की प्रॉपर्टी खरीद रखी है इतनी प्रॉपर्टी एक छोटा सा कर्मचारी कहां से लाया जांच का विषय है।
सुबोध कुमार जैन के भी कई शराब कांड वालों से अंदर ग्राउंड संपर्क थे जिसकी अवैध वसूली तोफिक करता था।

जिला प्रशासन के सभी वरिष्ठ अधिकारियों से हमारे समाचार के माध्यम से ध्यान आकर्षित करवाना चाहूंगा ऐसे भ्रष्ट अधिकारियों पर भी ध्यान दें और कार्रवाई दोषी पाए जाने पर करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *