ऑनलाईन शिक्षा प्रणाली लाभदायक या घातक – माही वर्मा (कक्षा 6th)

अगर कुछ करने की चाह मन मे हो, तो न उम्र बीच मे आती है, और न कोई परिस्तिथि, आज ऑनलाइन शिक्षा प्रणाली पर निबन्ध प्राप्त हुआ,जो कक्षा 6th की बालिका “माही वर्मा” द्वारा लिखा गया, एक बार आप जरूर पढ़ें

नाम – माही वर्मा
पिता का नाम – अजय वर्मा
विषय- ऑनलाईन शिक्षा प्रणाली लाभदायक या घातक
परिचय
ऑनलाइन अध्ययन शिक्षा का एक आधुनिक डिजिटल तरीका है, जहाँ पर शिक्षक और छात्र जैसे कि लैपटॉप, स्मार्टफोन, टैब या अन्य साधनो का उपयोग कर एक दूसरे से बातचीत करतें है। अध्ययन की यह प्रणाली इन दिनों काफी प्रचलित है, जबकि इस महामारी के फैलने के बाद हमें घर से बाहर न निकलने को कहा गया है|कोविड़-19 महामारी को देखते हुए कई स्कूलों ने ऑनलाइन अध्ययन के तरीके को अपनाया है और इस प्रक्रिया को काफी हद तक सफल भी बनाया हैं|
अध्ययन की यह प्रक्रिया काफी सुविधाजनक और फायदेमंद है अध्ययन की ये बहुत सस्ती प्रक्रिया है।
ऑनलाइन स्टडी के कुछ महत्वपूर्ण लाभ-
1.) सुविधाजनक
ऑनलाइन अध्ययन की इस विधी द्वारा छात्रों के साथ-साथ शिक्षको के लिए भी काफी उपयोगी और सुविधाजनक है। दोनों ही अपने घर के बाहर बिना जाए ही शिक्षा के सत्र में इस प्रणाली द्वारा आगे जा सकते है। उन्हें एक दूसरे से जुड़ने के लिए केवल एक अच्छे डिवाइस और इंटरनेट कनेक्शन की आवश्यकता होती है। बस आप अपनी आवश्यकता की किताबों के साथ अपने कमरे में एक उचित स्थान पर आराम से बैठकर अपने क्लासमेट्स के साथ ऑनलाइन कक्षा में भाग ले सकते है।

2.)सस्ता
ऑनलाइन अध्ययन स्कूली शिक्षा प्रणाली के कई मामलों में काफी सस्ती विधी है। सबसे पहला यह कि आपको स्कूल जाने और वापस आने में ट्रान्सपोर्ट व अन्य खर्चों की आवश्यकता नहीं पड़ती है, दूसरा यह कि स्कूल के अन्य सभी खर्चे कम हो जाते है। कभी-कभी पुस्तकें भी हमें ऑनलाइन ही मिल जाती है जिसकी कीमत हार्ड कापी की तुलना में काफी कम होती है। आप अपनी आवश्यकता के अनुसार इसे डाउनलोड कर सकते है, किताबों की तरह ही सामग्री उपलब्ध होती है। यहां तक आपको बस इंटरनेट कनेक्शन के पैसे ही खर्च करने होते है और कुछ नहीं।

3.) सुरक्षित
इसमें सोचने की जरुरत ही नहीं कि ऑनलाइन अध्ययन सुरक्षित विकल्प है, जिसमे खतरे की संभावना बहुत कम होती है। यह आपके लिए एक वरदान के रूप में है, जबकि आपका घर से बाहर निकलना आपको खतरनाक हो सकता है। हम सभी कोविड-19 महामारी के बारे में अच्छी तरह से जान चुकें है, जिसने पूरे पृथ्वी को लॉकडाउन में डाल दिया है। जिसके कारण छात्र एक दूसरे के संपर्क में नहीं आते है और इसके कारण उनमे बिमारी के फैलने की संभावना कम हो जाती है। शुक्र है कि छात्र रेगुलर ऑनलाइन कक्षा लें रहें है जिसके कारण कोर्स समय पर पुरा हो जाता है|

4.) पेपर का इस्तेमाल
ऑनलाइन शिक्षा की प्रक्रिया का एक और लाभ यह भी है कि इसमे कागजों का उपयोग बहुत कम हो जाता है। क्लासरूम प्रणाली में डिजिटल प्रणाली से अध्ययन करने में पेपर के उपयोग की मात्रा लगभग न के बराबर हो जाती है। आपको बस अपने में ये सब नोट करना होता है, जबकि आपका शिक्षक आपको बिना किसी पेपर के भी आपको पढ़ा सकता है। इसके अलावा ऑनलाइन स्टडी टेस्ट भी आयोजित किये जाते है जिसके कारण पेपर का इस्तेमाल बहुत कम हो जाता है।
जैसे उपरोक्त लाईनो मे हमने ऑनलाईन शिक्षा प्रणाली के फायदे समझे उसी प्रकार ऑनलाइन अध्ययन के कई फाँयदों के बावजूद इसके ढ़ेरों नुकसान भी है। यहां नीचे इससे होने वाले कुछ नुकसान के बारें में आपको बताया गया है।

1.)खुद पर नियंत्रणए
ऑनलाइन अध्ययन की सफलता आपके खुद के ऊपर निर्भर करता है, चाहे वह किसी भी क्षेत्र में हो। किसी भी ऑनलाइन अध्ययन की प्रक्रिया सफल हुई या नहीं यह बात केवल आपके सीखने की उत्सुकता पर ही निर्भर करती है, हो सकता है कि आपके शिक्षक आपको न देंख सकें, कि आप सीखने के लिए कितने आतुर है। आप खुद के मन को कैसे नियंत्रित कर उस कक्षा से कितना सीखते है यह आप पर निर्भर करता है।

2.) ईमानदारी पर निर्भर
यह ऑनलाइन अध्ययन की एक महत्वपूर्ण कमीयों में से एक है। ऑनलाइन कक्षा में रहते हुए आपका ध्यान हमेशा के लिए उपर होना चाहिए, उसके लिए आप ऑनलाइन कक्षा के प्रति कितने ईमानदार है यह आपकी उपस्थिति पर निर्भर करता है। ऐसी कक्षा में सभी छात्र पर ध्यान देना शिक्षक के लिए संभव नहीं है।

3.)केवल कोर्स सम्बन्धित बातें
अक्सर ऑनलाइन कक्षा में विषय के ऊपर चर्चा की जाती है जिस विषय में चर्चा की जानी होती है। आमतौर की कक्षाओं में शिक्षक जहां अपनी निजी बाते और जोक्स भी शामिल करते है, ऑनलाइन कक्षा में इसकी कमी रहती है। कक्षा में जहां शिक्षक कई अन्य बातों के बारे में भी बात कर सकते है वही वह ऑनलाइन कक्षा में केवल विषय से सम्बन्धित बाते ही बताते है।

4.)सीमित बातचीत
हाँलाकि शिक्षक और छात्रों के बीच ऑनलाइन कक्षा में बातचीत की कोई सीमा नहीं है, फिर भी यहाँ एक सीमीत मात्रा में बात की जाती है। एक शिक्षक को सभी छात्रों के प्रश्नों के उत्तर देने पड़ते है इस कारण शिक्षक छात्रों को बस कुछ मिनट ही दें पाते है।

5.) निष्कर्ष
ऑनलाइन अध्ययन का तरीका कुछ मामलों में पूर्ण नहीं है। यह तो निश्चित है की ऑनलाइन अध्ययन का माध्यम शिक्षा और तकनिक का एक कॉम्बिनेशन है। यह हमें सीखाती है कि नयी तकनीक के माध्यम से हम कैसे शिक्षा प्रणाली का लाभ उठा सकते है और हम इसमें विकास और सुधार के लिए और अधिक प्रयास कर सकते है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *